उत्तराखंड में बारिश, बद्रीनाथ हाईवे पर पहाड़ी से गिर रहा पत्थर का सिलसिला जारी

उत्तराखंड में बारिश, बद्रीनाथ हाईवे पर पहाड़ी से गिर रहा पत्थर का सिलसिला जारी

उत्तराखंड में बारिश, बद्रीनाथ हाईवे पर पहाड़ी से गिर रहा पत्थर का सिलसिला जारी, सोमेश्वर में गिराया घर

उत्तराखंड में मॉनसून की बारिश आपदा के रूप में हो रही है। सोमेश्वर में भारी बारिश के कारण घर की छत गिरने से एक महिला की मौत हो गई और पांच गंभीर रूप से घायल हो गए। पहाड़ों में लगातार हो रहे भूस्खलन के कारण दर्जनों सड़कें बार-बार अवरुद्ध हो रही हैं।

उत्तराखंड में बारिश, बद्रीनाथ हाईवे पर पहाड़ी से गिर रहा पत्थर का सिलसिला जारी: उत्तराखंड में मॉनसून की बारिश आपदा के रूप में हो रही है। सोमेश्वर में भारी बारिश के कारण घर की छत गिरने से एक महिला की मौत हो गई, जबकि पांच गंभीर रूप से घायल हो गए। पहाड़ों में लगातार हो रहे भूस्खलन के कारण दर्जनों सड़कें बार-बार अवरुद्ध हो रही हैं। बद्रीनाथ हाईवे और मलारी रोड को भले ही घंटों बाद खोल दिया गया हो,

लेकिन उन पर भूस्खलन और पहाड़ी से पत्थर गिरने का सिलसिला जारी है. चमोली जिले के थांग गांव को जोड़ने वाले जोशीमठ-बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग के पास मोटर मार्ग पर भूस्खलन हुआ।

वहीं, बांसवाड़ा के पास गौरीकुंड हाईवे बंद है। मोहंद के पास चट्टान में दरार आने से दून-दिल्ली हाईवे भी करीब सवा घंटे तक बाधित रहा। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक, अगले कुछ दिनों तक प्रदेश के दून समेत विभिन्न इलाकों में गरज के साथ छींटे पड़ सकते हैं.

news उत्तराखंड में बारिश
News

राज्य में रुक-रुक कर और भारी बारिश का सिलसिला जारी है, जिससे पहाड़ी इलाकों में परेशानी बढ़ रही है. कुमाऊं में गुरुवार को भी बारिश का क्रम जारी रहा। अल्मोड़ा जिले के सोमेश्वर में जिला मुख्यालय से 45 किलोमीटर दूर सुतोली गांव में तड़के बड़ा हादसा हो गया. एक मकान की छत गिरने से छह लोग मलबे में दब गए। गंभीर चोटों के कारण एक महिला की मौत हो गई।

जबकि उनके पति समेत पांच घायलों को बेस अस्पताल लाया गया है. वहीं बागेश्वर जिले में बारिश से दो घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं. बारिश के कारण चार मोटर मार्ग बंद होने से यातायात प्रभावित हुआ है।

इधर, तीन दिन बाद सीमा सड़क संगठन ने मलारी, नीति हाईवे को खोल दिया है, जो तमक में बंद था। हाईवे खुलने के बाद तीन दिन से फंसे सेना, आईटीबीपी के अलावा स्थानीय वाहनों की आवाजाही कराई गई। हालांकि पहाड़ी से लगातार पत्थर गिरने से यहां हाईवे को बंद किया जा रहा है। तमक में हाईवे बंद होने से सीमांत गांवों में जाने व वापस आने वाले राहगीरों के लिए सीमांत गांवों के ग्रामीण मददगार साबित हुए.
फेसबुकट्विटरwpkooईमेलसहबद्ध
वीडियो: उत्तराखंड में बारिश, बद्रीनाथ हाईवे पर पहाड़ी से गिर रहा पत्थर का सिलसिला जारी, सोमेश्वर में गिराया घर
उत्तराखंड मौसम अपडेट: उत्तराखंड में आपदा बारिश।
प्रकाशन तिथि:शुक्र, 13 अगस्त 2021 10:14 पूर्वाह्न (IST)लेखक: रक्षा पंथरी
उत्तराखंड में मॉनसून की बारिश आपदा के रूप में हो रही है। सोमेश्वर में भारी बारिश के कारण घर की छत गिरने से एक महिला की मौत हो गई और पांच गंभीर रूप से घायल हो गए। पहाड़ों में लगातार हो रहे भूस्खलन के कारण दर्जनों सड़कें बार-बार अवरुद्ध हो रही हैं।

जागरण संवाददाता, देहरादून। उत्तराखंड में मॉनसून की बारिश आपदा के रूप में हो रही है। सोमेश्वर में भारी बारिश के कारण घर की छत गिरने से एक महिला की मौत हो गई, जबकि पांच गंभीर रूप से घायल हो गए। पहाड़ों में लगातार हो रहे भूस्खलन के कारण दर्जनों सड़कें बार-बार अवरुद्ध हो रही हैं। बद्रीनाथ हाईवे और मलारी रोड को भले ही घंटों बाद खोल दिया गया हो, लेकिन उन पर भूस्खलन और पहाड़ी से पत्थर गिरने का सिलसिला जारी है.

चमोली जिले के थांग गांव को जोड़ने वाले जोशीमठ-बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग के पास मोटर मार्ग पर भूस्खलन हुआ। वहीं, बांसवाड़ा के पास गौरीकुंड हाईवे बंद है। मोहंद के पास चट्टान में दरार आने से दून-दिल्ली हाईवे भी करीब सवा घंटे तक बाधित रहा। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक, अगले कुछ दिनों तक प्रदेश के दून समेत विभिन्न इलाकों में गरज के साथ छींटे पड़ सकते हैं.

राज्य में रुक-रुक कर और भारी बारिश का सिलसिला जारी है, जिससे पहाड़ी इलाकों में परेशानी बढ़ रही है. कुमाऊं में गुरुवार को भी बारिश का क्रम जारी रहा। अल्मोड़ा जिले के सोमेश्वर में जिला मुख्यालय से 45 किलोमीटर दूर सुतोली गांव में तड़के बड़ा हादसा हो गया. एक मकान की छत गिरने से छह लोग मलबे में दब गए।

गंभीर चोटों के कारण एक महिला की मौत हो गई। जबकि उनके पति समेत पांच घायलों को बेस अस्पताल लाया गया है. वहीं बागेश्वर जिले में बारिश से दो घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं. बारिश के कारण चार मोटर मार्ग बंद होने से यातायात प्रभावित हुआ है।

यदि वाहन दुर्घटना में किसी की जान जाती है तो उसका लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा।
उत्तराखंड : वाहन दुर्घटना में जान गंवाने पर निरस्त होगा लाइसेंस, नियमों का उल्लंघन करने वालों की होगी पहचान
यह भी पढ़ें
इधर, तीन दिन बाद सीमा सड़क संगठन ने मलारी, नीति हाईवे को खोल दिया है, जो तमक में बंद था। हाईवे खुलने के बाद तीन दिन से फंसे सेना, आईटीबीपी के अलावा स्थानीय वाहनों की आवाजाही कराई गई। हालांकि पहाड़ी से लगातार पत्थर गिरने से यहां हाईवे को बंद किया जा रहा है। तमक में हाईवे बंद होने से सीमांत गांवों में जाने व वापस आने वाले राहगीरों के लिए सीमांत गांवों के ग्रामीण मददगार साबित हुए.

सड़क पर आया भारी मात्रा में मलबा, दून-दिल्ली हाईवे सवा घंटे बंद रहा. प्रतीकात्मक
सड़क पर आया भारी मात्रा में मलबा, सवा घंटे बंद रहा दून-दिल्ली हाईवे; यात्री थे परेशान
यह भी पढ़ें
सुरैथोटा, लता, फख्ती, पगरासु के ग्रामीणों ने न केवल नीति घाटी में जाकर लगभग 100 राहगीरों को आश्रय दिया, बल्कि उनके भोजन की व्यवस्था भी की। जबकि नीति घाटी से वापस आए करीब 50 ग्रामीणों ने जुम्मा, तमक आदि गांवों में शरण ली है. बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग तोताघाटी के पास का रास्ता करीब तीन दिन बाद खोल दिया गया है.

5 cheapest 5G smartphones to be purchased in India in August 2021

ALSO READ..

https://www.aajtak.in/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat