Independence day 2021

Indian culture

Indian culture

Indian culture:हेलो साथियों सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार हम आशा करते हैं ,कि आप सभी अच्छे होंगे साथियों हम आपके लिए रोजाना किसी न किसी टॉपिक के बारे में जानकारी देते हैं |

उसी के चलते आज हम उस टॉपिक के बारे में जानेंगे जो हम सभी भारतीयों  की पूरे विश्व में एक अलग पहचान कराता है |

जिसका नाम है Indian culture ( भारतीय संस्कृति ) जी हां आज हम अपने भारत की संस्कृति के बारे में जानेंगे तो चलिए जानते हैं Indian culture क्या है |

जी साथियों हम पूरी कोशिश करेंगे कि आपको कम शब्दों में और ज्यादा से ज्यादा जानकारी दें |आपसे आग्रह करते हैं कि आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें |

Indian culture kya hai 

Indian culture:हम सभी भारतीयों के लिए यह एक  गर्व की बात है कि हमारे देश की संस्कृति पूरे विश्व में एक अलग स्थान बनाई हुई है |  और पूरे विश्व में संस्कृति कला और परंपरा के लिए विख्यात है |   आपको बता दें कि भारत की भूमि को संस्कृति और परंपरा की भूमि माना जाता है |  आज भी लोग भारतीय हमारे देश की परंपरा और संस्कृति को बनाए रखे हुए हैं |

हमारी संस्कृति सबसे विख्यात इसलिए भी है क्योंकि यहां सबसे पुरानी  सभ्यता विकसित हुई थी इसका नाम सिंधु सभ्यता था | 

भारत की संस्कृति भारत के महान इतिहास संपूर्ण भूगोल और सबसे पुरानी सभ्यता सिंधु सभ्यता और आगे चलकर वैदिक और उत्तर वैदिक काल के उपरांत बनी एवं विकसित हुई |

भारतीय संस्कृति कई धर्म और रीति-रिवाजों कला ,भाषाएं एवं परंपराओं के लिए प्रसिद्ध मानी जाती है | भारतीय संस्कृति को आज भी कई देश अपना रहे हैं क्योंकि हमारे देश ( भारत ) का कल्चर पूरे विश्व में सभी देशों की संस्कृतियों से अलग है |  और हमारे देश के कल्चर को अपनाया जा रहा है |

आइए भारतीय संस्कृति के बारे में विभिन्न जानकारी कुछ इस प्रकार जानने की कोशिश करते हैं |

Indian culture में भाषा और साहित्य 

Indian culture: इंडियन कल्चर में भाषा और साहित्य को हम कुछ प्वाइंट्स के द्वारा समझते हैं 

language
language?
  • भारत में 97% जनसंख्या केवल 23 भाषाएं ही बोलती है | इन भाषाओं में से 22 भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल है |
  • 1500-600 ईसा पूर्व के काल में वैदिक साहित्य की रचना हुई | इसके पश्चात पाणिनि  ने अष्टाध्याई लिखी
  • भारत में आने वाले  आर्य संस्कृत  भाषा-भाषी थे |
  •  तमिल भाषा को द्रविड़ भाषा परिवारों की जननी माना जाता है |
  •  16 वी सदी में राजा कृष्णदेव राय का काम तेलुगु साहित्य का स्वर्णकाल था |
  • आधुनिक काल में खड़ी बोली काव्य का विकास तथा खड़ी बोली में कविताओं का संकलन ब्रजभाषा की जगह हुआ
  • आधुनिक काल को 4 अवस्थाओं भारतेंदु युग, द्विवेदी युग, छायावादी युग तथा समकालीन युग में बांटा जाता है |  भारतेंदु हरिश्चंद्र को आधुनिक हिंदी साहित्य का पिता माना जाता है |
  •  10 वीं सदी के प्रमुख  कन्नड़ कवि पंप,  पोनन एवं रत्नों को रत्नतिर्यक नाम से जाना जाता था
  • फकीर मोहन सेनापति ने रामायण तथा महाभारत का उड़िया भाषा में अनुवाद   किया था |
  • पंजाबी साहित्य का प्रारंभिक 12 वीं सदी के अंतिम चरण से होता है |  इसके प्रथम कवि बाबा फरीद शकरगंज थे |
  •  माइकल मधुसूदन दत्त, मनमोहन घोष, अरबिंदो घोष  अंग्रेजी भाषा में कविताएं लिखी हैं |
  •  भारत में अंग्रेजी भाषा का प्रचार ब्रिटिश  के आगमन से प्रारंभ हुआ|  भारतीय अंग्रेजी भाषा एवं साहित्य के अग्रदूत में राजा राममोहन राय प्रमुख हैं |

Indian culture में धर्म

Indian culture में काफी सारे धर्मों का समावेश है चलिए जानते हैं एक-एक  करके हैं |

हिंदू धर्म

Indian culture: हिंदू धर्म विश्व के प्रमुख धर्मों में प्राचीनतम माना जाता है |  यह एकमात्र ऐसा धर्म है जिसका कोई संस्थापक नहीं है इसलिए इसे सनातन धर्म भी कहा जाता है |  हिंदू धर्म का मूल आधार वेदों को माना जाता है जिसकी रचना  आर्यों के द्वारा की गई थी | जिसमें गुप्त काल में विभिन्न देवी देवताओं की मूर्ति बनाकर पूजा की जाने लगी थी |  हिंदू धर्म में वेद, उपनिषद, पुराण, रामायण, महाभारत, गीता आदि प्रमुख ग्रंथ माने जाते हैं|

बौद्ध धर्म

बौद्ध धर्म के संस्थापक गौतम बुद्ध थे जिसमें हीनयान, महायान तथा वज्रयान इस धर्म के प्रमुख संप्रदाय थे|  और सुत्तपिटक ,  विनयपिटक  और अभीधम्मपिटक इस धर्म के प्रमुख ग्रंथ हैं |

  शून्यवाद,  विज्ञानबाद, एवं बेभाषिक और सोत्रआंतरिक बौद्ध धर्म से संबंधित है |

 जैन धर्म 

Indian culture: जैन धर्म के संस्थापक ऋषभदेव वास्तविक संस्थापक महावीर स्वामी को माना जाता है |  जैन धर्म में 24 तीर्थंकर हुए, चीन में 23 व पार्श्वनाथ एवं 24:00 पर महावीर थे |  श्वेतांबर एवं दिगंबर, जैन धर्म से संबंधित प्रमुख संप्रदाय हैं|  कल्पसूत्र आचारअंगसूत्र एवं भगवती सूत्र जैन धर्म से संबंधित प्रमुख ग्रंथ हैं |

 सिख धर्म

Indian culture: सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक थे |  आदिग्रंथ (गुरु ग्रंथ साहिब ) सिक्खों का पवित्र धर्म ग्रंथ है | कर्म करना मिल बांट कर खाना और प्रभु का नाम जपना इसके प्रमुख आधार |  किस धर्म के अनुसार छुआछूत रूढ़िवादी ऊंच-नीच सब आडंबर मात्र है |

  इस्लाम धर्म

 इस्लाम धर्म के संस्थापक हजरत मोहम्मद साहब थे | इसकी स्थापना सातवीं शताब्दी में हुई थी| सिया एवं सुन्नी इसके प्रमुख संप्रदाय हैं  कुरान शरीफ किस का पवित्र धर्म ग्रंथ माना जाता है| भारत में इस्लाम का आगमन आठवीं शताब्दी में  अरब व्यापारियों के साथ  शुरू हुआ | धार्मिक विधि शास्त्र के चार प्रमुख स्रोत कुरान, हाजीस,इज्मतथा  किआस है | 

ईसाई धर्म

 इस धर्म के संस्थापक ईसा मसीहा थे | इस धर्म की स्थापना प्रथम सदी में हुई थी | रोमन कैथोलिक तथा प्रोटेस्टेंट प्रोटेस्टेंट इसके प्रमुख संप्रदाय हैं | बायबिल इनका प्रमुख ग्रंथ है जिसके दो भाग ओल्डटेस्टामेंट एवं न्यू टेस्टामेंट है |  भारत में ईसाई धर्म का आगमन प्रथम शताब्दी में  हुआ था |

indian culture में कला एवं स्थापत्य

Indian culture में कला एवं स्थापत्य का एक अलग  रोल है आइए ना कुछ इस प्रकार से जानते हैं | 

  स्थापत्य एवं मूर्तिकला

इसको हम कुछ पॉइंट्स के द्वारा समझेंगे जैसे

  • स्थापत्य कला के प्रारंभिक साक्षी सिंधु घाटी सभ्यता से प्राप्त होते हैं नगर निगम,, स्नानागार  इसके प्रमुख उदाहरण हैं |
  •  सेंधव सभ्यता में मूर्ति निर्माण कला भी काफी उन्नत अवस्था में दिखाई देती है |
  •  मोहनजोदड़ो से प्राप्त नर्तकी की कांस्य प्रतिमा सेंधव कला का बेजोड़ नमूना है |
  •  मौर्य कला का उत्कृष्ट नमूना अशोक द्वारा निर्मित एकात्मक स्तंभ है |
  • मौर्योत्तर काल में मूर्तिकला का व्यापक विकास हुआ तथा बौद्ध, जैन एवं हिंदू धर्म से संबंधित मूर्तियों का निर्माण प्रारंभ हुआ था |
  •  गांधार कला भारत में ईसा पूर्व प्रथम शताब्दी के मध्य कुषाण काल में विकसित हुई थी |
  •  गांधार शैली तथा मथुरा शैली में बुद्ध सहित अनेक मूर्तियों का निर्माण किया गया प्रारंभिक गुप्तकालीन मंदिरों की स्थापना ऊंचे चबूतरो पर की गई है और उसके बाद गुप्तकालीन मंदिरों में ईंटों का प्रयोग प्रारंभ हुआ | 
  • पल्लव स्थापत्य कला ही दक्षिण कि द्रविड़ शैली का आधार  बनी |
  •  सल्तनत कालीन स्थापत्य की महत्वपूर्ण विशेषता यह थी कि एक खुले स्थान का प्रयोग करते थे और अपने भवनों में मेहराब एवं, गुंबद का प्रयोग  करते थे, मीनारों का निर्माण करते थे| बलबन के मकबरे में पहली बार वैज्ञानिक मेहराब का इस्तेमाल किया गया था  यह सभी भारतीय संस्कृति पर एक बेजोड़ नमूना प्रदर्शित करते हैं जो विश्व में एक अलग पहचान बनाए हुए हैं|

चित्रकला

आपको बता दें वात्सायन के कामसूत्र ग्रंथ में चित्रकला को 64 कलाओं में चौथा स्थान दिया गया है और अजंता गुफाओं की प्राचीन चित्रकारी ईस्वी पूर्व प्रथम शताब्दी की है |  चित्रकारी के प्रारंभिक साक्ष्य पाषाणकालीन स्थल भीमबेटका से प्राप्त हुए हैं | सातवीं शताब्दी से 12 वीं शताब्दी के मध्य जैन शैली का उद्भव एवं विकास हुआ जिसका प्रथम  प्रमाण सित्तनवासल की गुफा से प्राप्त होता है | आपको बता दें कि अपभ्रंश शैली के चित्रों का निर्माण 11 से 15 वी शताब्दी के बीच  ताड़पत्र, कागजों एवं कपड़ों पर हुआ है | 

आगे चलकर बीसवीं शताब्दी में अबनींद्रनाथ टैगोर की अध्यक्षता में चित्रकला के क्षेत्र में एक नई क्रांति हुई जिसे  नव्य कला आंदोलन कहा जाता है |

अजंता, एलोरा, बाघ,, एलिफेंटा, बादामी, भीमबेटका, आजमगढ़ आदि की गुफाएं प्राचीन भारतीय चित्रकला के प्रमुख उदाहरण हैं |

संगीत

संगीत भी indian culture को एक अलग पहचान देता है जो हमारे भारत में बहुत ही पुराने समय से चला आ रहा है जिसे लोगों ने अपने आनंद मनोरंजन प्रोफेशन इत्यादि के रूप में प्रयोग किया है और आज भी लोग कर रहे हैं 

सामवेद को संगीत की प्राचीन बुक माना जाता है  ,आधुनिक संदर्भ के शुद्ध गायन संबंधित ग्रंथों में लोचन कवि की  रजतरंगड़ी और सारंगदेव का संगीत रत्नाकर संगीत के आदि ग्रंथ हैं |

 वर्तमान में भारतीय संगीत को दो प्रमुख वर्गों में विभाजित कर दिया गया है हिंदुस्तानी एवं कर्नाटक ,जिसमेंहिंदुस्तानी शैली की तुलना में कर्नाटक शैली में  तालों का वर्गीकरण अधिक वैज्ञानिक है  | और राग, स्वरों का अनुशासित रूप से प्रस्तुतीकरण है|

 भारतीय संगीत के इतिहास में राग का उल्लेख सर्वप्रथम मतंग मुनि के ग्रंथ   बृहददेसी में क्या गया है |

आपको बता दें ध्रुपद भारत का प्राचीनतम गीत प्रकार हैं जिसका प्रचार उत्तर भारत में 15 एवं 16वीं सदी में हुआ तथा ख्याल स्वर प्रधान गायन शैली है जिसका जनक अमीर खुसरो को कहा जाता है संगीत भी indian culture को प्रभावपूर्ण कल्चर बनाता है |

 नृत्य

नृत्य भी indian culture को एक ऊंचा दर्जा देने में अहम भूमिका निभाता है | जिसका आविर्भाव संभवत प्रागैतिहासिक काल में हुआ था भारतीय नृत्य पर सबसे पुरानी पुस्तक नाट्यशास्त्र है जो कि भरत द्वारा लिखी गई थी | आइए कुछ प्रमुख भारतीय शास्त्रीय नृत्य के नाम जानते हैं |

प्रमुख भारतीय शास्त्रीय नृत्य

संगीत नाटक अकादमी द्वारा आज नृत्य को शास्त्रीय नृत्य के रूप में मान्यता प्रदान की गई है जिनके नाम निम्न बिंदुओं द्वारा प्रदर्शित किए जा रहे

  1. भारतनाट्यम
  2.  मणिपुरी
  3.  कथक
  4.  कथकली
  5.  थोड़ी सी
  6.  कुचिपुड़ी
  7.  मोहिनीअट्टम
  8.  सतरिया

भारत के विभिन्न प्रदेशों के प्रमुख लोक नृत्य है

  1. उत्तर प्रदेश 

रासलीला, नौटंकी, कजरी, दिवाली,  जट्टा, थाली, जेता,  चाचरी आदि |

  1.  मध्य प्रदेश

 चेक, रीना, पंडवानी, खेरिया,  गैरों,  विल्मा,  भगोरिया, नवरानी  आदि |

  1. राजस्थान

   हिकात, पनिहारी,   ख्याल, झूलनलीला,  गणगौर, तेरहताली गोपी का लीला, घूमर, डांडिया इत्यादि |

  1.   उत्तराखंड

 कुमाऊनी नृत्य, चौफुला नृत्य, झूमेलो, जागर, चाचरी छोलिया नृत्य आदि |

  1.  झारखंड

 सरहुल ,  एहंदी कर्मा , जदूर ,  गेमा गामा आदि |

  1.  बिहार

 कीर्तनया ,  जटजटिन , पवारिया , सोहराई , सामा चकेवा ,  जाया ,  जात्रा  आदि

  1.  पंजाब

 गिद्दा ,  भांगड़ा ,  आदि |

  1.  हरियाण

  खोडिया ,  घूमर,  सॉन्ग |

  1. छत्तीसगढ़

 सुआ करमा ,  रहस , नाचा ,  घसिया बाजा ,  पंथी पंडवानी ,   राऊत |

  1. ओडिशा

 गरुड़ वाहन ,  पैका , आया , जदूर ,  सवारी ,   छाऊ आदि |

  1. गुजरात

  झाकोलिया ,  गरबा , पड़ीहारी ,  लास्या , रासलीला आदि | 

  1.  महाराष्ट्र 

 गोधलगीत , तमाशा ,  लावणी , मोनी गणेश चतुर्थी ,  लीजम आदि |

  1. जम्मू कश्मीर 

 चाकरी ,राऊफ,   भाखागीत  आदि | 

  1. पश्चिम बंगाल

 काठी ,गंभीरा, जाया,कीर्तन  आदि | 

  1. तमिलनाडु

          कुम्मी , कारागम ,  काबड़ी आदि |

  1. कर्नाटक

 यक्ष गढ़ , वीरगासे , करगा ,  आदि |

  1.  केरल

 कथकली,  पादियानी,  करीम, आदि |

  1. हिमाचल प्रदेश 

चंबा ,   छपेली,  डांगी ,  डंडा नाच ,  थाली  आदि |

  1. मणिपुर 

संकीर्तन , बसंतराम , लाइहरीबा नाच आदि |

  1. मिजोरम

   पाखूलिया नाच ,   आदि |

  1. मेघालय

 पाबलॉन्ग नोंगक्रोम ,   साद मिनसीम , बंगाला |

  1.  नागालैंड

 युद्ध नृत्य, खेमा , लिम आदि |

  1.  लक्ष्यदीप

परिचाकली |

  1. आंध्र प्रदेश

  बटकम्मा, कुम्मी ,घंटा मर्दला  आदि |

  1.  अरुणाचल प्रदेश

 मुखौटा नृत्य ,युद्ध नृत्य आदि|

  1.  असम

ढोल नृत्य ,खेल गोपाल ,  महारास, नट पूजा आदि |

 भारत के  कुछ सांस्कृतिक संस्थान

  • ललित कला अकादमी  – 1954, नई दिल्ली
  •  इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र  – 1959 new  delhi
  • संगीत नाटक अकादमी – 1953 New Delhi
  • नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट – 1954  न्यू दिल्ली
  • नेशनल बुक ट्रस्ट ऑफ इंडिया – 1957  नई दिल्ली
  • राष्ट्रीय पुस्तकालय  – कोलकाता
  •  रामपुर रजा पुस्तकालय –   रामपुर( उत्तर प्रदेश)
  •  एशियाटिक समाज  1784 (विलियम जॉन्स)
  •  भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण –  1861 ( संस्कृति मंत्रालय के अधीन )
  • साहित्य अकादमी –  1954
  •  इंडियन काउंसिल ऑफ कल्चरल रिलायंस –  1949 नई दिल्ली 
  • राष्ट्रीय नाटक विद्यालय –  1959  नई दिल्ली

Indian culture kya hai Indian education

Indian culture:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat