Medicine को हिंदी में दवाइयां या फिर औषधियां कहते हैं

Medicine

Medicine क्या होती  हैं और यह क्यों यूज़ की जाती  हैं ?

Medicine को हिंदी में दवाइयां या फिर औषधियां कहते हैं

जो हमारे शरीर को ठीक करने में सहायता करती हैं यदि जब हमें कोई बीमारी हो जाती है

तो हम किसी डॉक्टर के पास जाते हैं और वह डॉक्टर हमें देखकर दवाइयां देता है

तो दवाइयां हमारे शरीर के लिए लाभदायक होती है जो कुछ केमिकल्स को मिलाकर बनी होती है |

ऑनलाइन NEET की तैयारी करें घर बैठे

Medicine कितने प्रकार के होती हैं :-

Medicine सामान्यतया: दो प्रकार की होती हैं जेनेरिक तथा एथिकल आइए इन दोनों के बारे में विस्तार जानते हैं –

क्या डिफरेंस होता है एथिकल और जेनेरिक Medicine में :-

जेनेरिक और एथिकल दवाइयों में कोई फर्क नहीं होता है बस ब्रांड का फर्क होता है  कीमत में  जेनरिक और एथिकल Medicine में कोई फर्क नहीं होता। दोनों को एक ही तरीके से बनाया जाता है |

इन दोनों की कीमत में डिफेंस केवल ब्रांड की और मार्केटिंग की वजह से बढ़ती घटती रहती है

जो लोग अपनी आर्थिक स्तिथि से कमजोर होते हैं उन लोगों के लिए जेनेरिक दवाइयां सही होती है क्योंकि जेनेरिक दवाइयां थोड़ी सस्ती होती हैं एथिकल दवाइयों के कंपैरिजन में लेकिन काम जेनेरिक दवाइयों का भी एथिकल दवाइयों की तरह  ही होता है |

दोनों की गुणवत्ता, क्वालिटी व परफॉर्मेंस सेम होती है |

जेनेरिक दवाइयों के सस्ता होने के कारण कंपनियां जेनेरिक प्रोडक्ट्स पर ज्यादा रेवेन्यू कमाते हैं और जो यह अपने रिटेलर को भी काफी सारे गिफ्ट भी प्रोवाइड करती है और यह मरीजों को भी काफी अच्छा रिजल्ट देती है जिनके कारण है काश मार्केट में काफी पॉपुलर होती हैसभी दवा बनाने वाली कंपनियां दोनों प्रकार की दवा बनाती हैं। दोनों प्रकार की दवाइयों में कंपोजिशन समान होता है |

जेनेरिक Medicine के बारे में क्या कहते हैं केमिस्ट :-

जम्मू एंड कश्मीर के दो केमिस्ट Mr.Sachin Kumar & Vikash Kumar ने बताया कि हम फिलहाल कुछ जेनरिक दवाइयां

m11 Medicine
apnipasandco.com

रखते हैं। लेकिन 95-99 प्रतिशत मरीज इन दवाओं को सस्ता होने के चलते नहीं लेते। मरीजों को लगता है कि दवा नकली होगी, इसलिए सस्ती दे रहे हैं।

क्या हमें मेडिसिन बिना किसी डॉक्टर की सलाह के प्रयोग करनी  चाहिए ?

सीधे शब्दों में कहा जाए तो हमें किसी भी प्रकार की मेडिसिन

बिना किसी डॉक्टर की सलाह के बिना यूज नहीं करनी चाहिए क्योंकि दवाइयां केमिकल होते हैं

और केमिकल यदि आपके लिए इसी प्रकार से घातक साबित हुए

तो आपकी जान भी जा सकती है इस प्रकार हमें दवाइयां

बड़े ही सोच समझकर और सलाह के द्वारा यूज करनी चाहिए खुद हमें अपनी मर्जी से नहीं करनी चाहिए |

हां यदि कोई छोटी प्रॉब्लम है जैसे सिर में दर्द है या आपको गैस हो रही है आदि

zइस प्रकार की दिक्कतों में आप अपनी मर्जी से किसी भी मेडिकल से किसी प्रकार की दवाई लेकर यूज कर सकते हैं |

क्या आप सेल्फ स्टीम को जानते हैं जाने

2 thoughts on “Medicine

  1. Dr.ki permission ke bina hame koi bhi tablet ya medicine nhi lena chahiy
    Nice information
    Good blog

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat